Home Car News इतने लोगों की जा चुकी है जान, बड़ी कमी की वजह से...

इतने लोगों की जा चुकी है जान, बड़ी कमी की वजह से Ford को वापिस लेनी पड़ेंगी 30 लाख गाड़ियां

नई दिल्ली: अमेरिकन ऑटोमोबाइल कंपनी फोर्ड (Ford) अपने 30 लाख वाहनों को रीकॉल करने जा रही है। कोई भी वाहन निर्माता कंपनी अपनी गाड़ियों को तब रीकॉल करती है जब पूरे के पूरे लॉट में बड़े स्तर पर कोई मैन्युफैक्चरिंग डिफेक्ट या खामी रह जाए और कंपनी बिना कोई चार्ज लिए उसे अपने खर्चे पर बदलती है। फोर्ड ने बयान जारी कर कहा है कि उसे इन वाहनों के एयरबैग इन्फ्लेक्टर खराब होने के डर के चलते इतना बड़ा रीकॉल करना पड़ रहा है। इस पूरी कवायद में फोर्ड को 610 मिलियन डॉलर का अतिरिक्त भार उठाना पड़ेगा। भारतीय मुद्रा (मौजूदा दर) के हिसाब से ये राशि करीब 445 करोड़ रुपए तक पहुंचती है।

Read More:   Benelli ने भारत में लॉन्च की अपडेटेड Leoncino 500, जानिए कीमत और खूबियां

इन तीस लाख वाहनों में से तकरीबन 27 लाख वाहन सिर्फ यूएस में है। रीकॉल किए गए वाहनों में प्रमुख तौर पर 2006 – 2012 के बीच तैयार की गई फोर्ड की रेंजर, फ्यूजन, एज, लिंकन जीफर/एमकेजेड, मरकरी मिलन व लिंकन एमकेएक्स जैसी गाड़ियां शामिल है। गौरतलब है कि कंपनी ने इस रीकॉल को टालने के 2017 में याचिका लगाई थी। लेकिन अमेरिका के नेशनल हाइवे ट्रैफिक सेफ्टी एडमिनस्ट्रेशन (National Highway Traffic Safety Administration -NHTSA) ने इस याचिका को खारिज कर दिया।

Read More:   भारत में कोई भी कार खरीदने से पहले ये क्रैश टेस्ट रेटिंग देखना सबसे जरूरी क्यों है?

खबरों के मुताबिक बीते कुछ सालों में फोर्ड की जो गाड़ियां दुर्घटनाग्रस्त हुई थीं उनमें अलग-अलग देशों में 400 लोग घायल हुए व 27 की मौत हो गई। इनमें से अकेले यूएस में 18 दुर्घटनाएं हुई थीं। इन मौतों के लिए खराब एयरबैग इन्फ्लेक्टर को संभावित वजह माना गया था। बता दें कि दुनिया भर में यूएस में सबसे कड़े सुरक्षा मानक तय किए गए हैं।

Read More:   Video: इस SUV ने बचाई लुटेरों से लड़की की जान, देखें वीडियो

हाल ही में दुनियाभर में अपने उत्पादों की शानदार गुणवत्ता के लिए पहचानी जाने वाली टेस्ला (Tesla) के मामले में भी कुछ ऐसा ही देखा गया था। अमेरिका में बेची गई टेस्ला की 1,58,000 गाड़ियों में खराबी आई है।

Read More:   पेट्रोल के दामों से हैं तंग, तो ये शानदार स्कूटर जितवाएंगे जंग, जानें डिटेल्स

गौरतलब है कि Tesla Inc के 2012-2018 के Model-S और 2016-2018 के Model-X के मीडिया कंट्रोल यूनिट में खराबी पाए जाने के बाद अमेरिका के नेशनल हाइवे ट्रैफिक सेफ्टी एडमिनस्ट्रेशन (National Highway Traffic Safety Administration -NHTSA) ने टेस्ला को आदेश दिया कि वह इन कारों को वापिस ले। NHTSA का मानना है कि मीडिया कंट्रोल यूनिट की इस खराबी से इन गाड़ियों में टचस्क्रीन काम नहीं कर रही थी, जिससे लोगों की सुरक्षा को खतरा हो सकता था। अभी तक Tesla की तरफ से इस बारे में कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है, लेकिन उसे 27 जनवरी तक NHTSA को इस बारे में जवाब भेजना होगा।

Most Popular