Home Car News Video: महिंद्रा थार के एक्सीडेंट का ये वीडियो आपका दिल दहला देगा,...

Video: महिंद्रा थार के एक्सीडेंट का ये वीडियो आपका दिल दहला देगा, जानिए कितनी सुरक्षित है ये कार

ग्लोबल न्यू कार असेसमेंट प्रोग्राम यानी जीएनसीएपी (GNCAP) भारतीय ऑटोमोबाइल सेक्टर से जुड़ा एक चर्चित नाम है। इस प्रोग्राम के तहत भारतीय कारों का क्रैश टेस्ट कराया जाता है और उसकी जानकारी उपभोक्ताओं को दी जाती है।

ग्लोबल एनसीएपी प्रोग्राम के तहत किसी भी कार को 64 किलोमीटर/घंटा की रफ़्तार और चालीस प्रतिशत ओवरलैप (ड्राइवर की तरफ गाड़ी का चालीस प्रतिशत हिस्सा) के साथ एक खास आकृति वाले बैरियर से टकराया जाता है। ये टक्कर 50 किलोमीटर/घंटा रफ़्तार से विपरीत दिशा से आ रही दो बराबर वजन वाली कारों के बीच आमने-सामने हुई टक्कर के बराबर प्रभावी होता है।

इस क्रैश टेस्ट के बाद किसी भी कार को वयस्क और बच्चों, दोनों के हिसाब से अलग-अलग रेटिंग दी जाती है. किसी दुर्घटना के समय कार में मौजूद सवारियों पर पड़ने वाले प्रभाव को समझने के लिए क्रैश टेस्ट में कारों में पुतले यानी डमी बिठाए जाते हैं। जीएनसीएपी की तरफ़ से किसी भी कार को दी जाने वाली रेटिंग ड्राइवर (डमी) के सिर व गर्दन, सीना, घुटना, जांघ और पैर पर लगने वाली चोटों को ध्यान में रखते हुए दी जाती है। कार को मिलने वाले स्कोर में सवारियों और बच्चों की सुरक्षा की भी अहम भूमिका रहती है। इसे जांचने के लिए क्रैश टेस्ट के दौरान गाड़ी में डेढ़ से लेकर तीन साल तक के बच्चों के आकार की डमी बिठाई जाती है।

Read More:   Mahindra ने वापिस बुलाई इतनी हजार Thar, इंजन का ये पार्ट बदलने में आएगा इतना खर्चा
Read More:   भारत में कोई भी कार खरीदने से पहले ये क्रैश टेस्ट रेटिंग देखना सबसे जरूरी क्यों है?

कुछ समय पहले जीएनसीएपी ने महिंद्रा की ऑफरोड एसयूवी थार (Thar) का क्रैश टेस्ट किया था और उसका वीडियो भी वेबसाइट पर अपलोड किया। इस क्रैश टेस्ट में जीएनसीएपी ने महिंद्रा थार को एडल्ट और चाइल्ड दोनों ऑक्यूपेंट में पांच में से चार स्टार दिए हैं। थार के क्रैश सेफ्टी टेस्ट के दौरान ड्राइवर और पैसेंजर के सिर और गर्दन के साथ सीना भी गंभीर घावों से सुरक्षित रहा।

इसके अलावा जीएनसीएपी प्रोग्राम के तहत महिंद्रा थार का इलैक्ट्रॉनिक स्टेबिलिटी कंट्रोल (Electronic stability control-ESC) टेस्ट भी किया गया। दरअसल जैसे ही गाड़ी पर से स्टीअरिंग का कंट्रोल कम होने लगता है तुरंत ईएससी एक्टिवेट होकर गाड़ी को काबू करने में मदद करता है। कुछ ईएससी सिस्टम इस तरह भी विकसित किए जाते हैं कि गाड़ी के पूरी तरह काबू में न आने तक इंजन की पॉवर को घटा देता है और गाड़ी के स्टेबल होने में मदद करता है।

इसी तरह गाड़ी के साइड प्रोफाइल को भी टेस्ट कर के देखा गया। उसमें भी महिंद्रा थार ने शानदार प्रदर्शन किया।

Read More:   XUV500: Mahindra लॉन्च कर सकती है इस शानदार SUV का नया अवतार, जानिए खूबियां
Read More:   क्या कुछ मिलेगा Tata की नई SUV में, बिल्कुल बदल गई है Safari

 

 

Most Popular